Sunday, December 6, 2009

शैतानी शक्तियों का नाशक - हीरा

प्राचीन समय से ही हीरा राजा-महाराजाओं की शान रहा है। आज के समय में हीरा हर घर, हर वर्ग को आकर्षित कर रहा है। महिलाओं के श्रंगार में हीरे जड़ित आभूषणों से तो उनका सौंदर्य और निखरता है। सभी रत्नों में हीरा सबसे कठोर एवं चमकीला है। यह एक स्वतंत्र खनिज है व घनाकार स्वरूप में हमें प्राप्त होता है। यह अच्छी पारदर्शिता के साथ सभी रंगों में आता है।

हीरे का मूल्य इसके भार, शुद्धता, रंग तथा पारदर्शिता को ध्यान में रखकर तय किया जाता है। इसकी आंतरिक शुद्धता एवं रंग की श्रेणी का एक पैमाना होता है। वैसे तो हीरे के बहुत से कट होते हैं, किंतु गोल डबल कट सबसे ज्यादा चलन में है। इस कट में ५७ फलक होते हैं। इस कारण इसकी दीप्ति आकर्षक एवं सम्मोहित करने वाली होती है। हीरा शुक्र ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। शुक्र सभी ग्रहों में सबसे चमकीला है।

मूलांक ६ वाले जातक भी इस रत्न को धारण कर सकते हैं। हीरा पहनने से शैतानी शक्तियां नष्ट होती हैं। यह जातक के विचारों में दृढ़ता लाता है और उसके व्यक्तित्व को आकर्षक बनाता है। इससे दांपत्य जीवन में मधुरता आती है। हीरे का रासायनिक गठन कार्बन है। इसे इंग्लिश में डायमंड कहते हैं।

No comments:

Post a Comment