Monday, November 23, 2009

सूर्य को जल अर्पण करें मूलांक 1 वाले

अंक ज्योतिष के अनुसार यदि किसी व्यक्ति का किसी भी अंग्रेजी महीने की 0१,१0,१९, २८ तारीख को जन्म हुआ हो, तो उसका जन्म मूलांक १ (एक) माना जाता है। इस अंक का स्वामी सूर्य है। वैज्ञानिक दृष्टि से यह अखंडता और पूर्णता का प्रतीक है। इस अंक वाले व्यक्तियों पर सूर्य का पूर्ण प्रभाव रहता है। यह अंक सक्रियता और प्रबल ऊर्जा शक्ति का प्रतीक होता है।
स्वभाव :
मूलांक १ वाले व्यक्ति स्वाभिमानी, आशावादी, दृढ़ निश्चयी, स्वतंत्रता प्रेमी, स्पष्टवादी नेतृत्व की जन्मजात प्रतिभा वाले होते हैं। किसी की अधीनता में कार्य करना उन्हें पसंद नहीं होता। ऐसे लोग दार्शनिक और दूरदर्शी होते हैं। धार्मिक विश्वासों में या तो एकदम कट्टर या इसके एकदम विपरीत अनास्थावादी होते हैं।
स्वास्थ्य :
इस मूलांक में जन्मे व्यक्तियों के स्वास्थ्य को सबसे अधिक खतरा शारीरिक न होकर मानसिक होता है। इनका स्वभाव ही उनकी बीमारी का कारण बनता है। विशेष स्वास्थ्य हानि, जीवन के ४३वें, ५२वें और ६क्वें वर्ष में होती है।
व्यवसाय एवं कार्य रुचि :
मूलांक १ वाले व्यक्ति क्रियाशील मस्तिष्क तथा संघषर्रत रहने की प्रवृत्ति के स्वामी होते हैं। इनके लिए प्रशासनिक सेवा सबसे अच्छा कार्य क्षेत्र है। राजकीय सेवा के अलावा चिकित्सा, स्वर्ण या जवाहरातों का व्यवसाय लाभदायक होता है। ये अच्छे प्रबंधक, डायरेक्टर, नियंत्रक, आईएएस अधिकारी, श्रेष्ठ डॉक्टर, राजदूत, समाचार-पत्रों के प्रमुख और लेखक भी होते हैं। मूलांक १ वाली स्त्रियां, डॉक्टर, किसी संस्था की प्रमुख, डिजाइनर, सभा सोसायटियों की प्रधान तथा नेता बनती हैं।
आर्थिक स्थिति :
मूलांक १ वाले व्यक्ति की आर्थिक स्थिति उच्च स्तर की होती है। ऐशोआराम, शानो-शौकत पर बहुत धन व्यय करते हैं। जुआ, सट्टा और चापलूस लोग अधिकतर इनकी हानि का कारण बनते हैं। १९, २१, २२वें वर्ष की आयु में अधिक क्रियाशील होकर अपनी आर्थिक स्थिति को उत्तम बनाने में अग्रसर हो जाते हैं।
प्रेम-संबंध, विवाह और संतान :
मूलांक १ वाले व्यक्ति ऊपर से भले ही सख्त एवं रूखे से लगते हैं, परंतु मन से कोमल तथा प्रेम के भूखे होते हैं। इनका प्रेम संबंध स्थायी एवं पक्का होता है।
यात्राएं :
इस मूलांक वाले व्यक्ति एक ही स्थान पर कार्य करना पसंद करते हैं फिर भी इन्हें यात्राएं करनी पड़ती हैं।
शुभ रंग :
शुभ रंग नारंगी, सुनहरा, हल्का भूरा, गुलाबी और तांबाई होता है।
मित्र व शत्रु अंक :
इस मूलांक के लिए १, ३, ५, ९ अंक के व्यक्ति मित्र और सहयोगी सिद्ध होते हैं। इनके लिए २, ४, ६, ८ शत्रु अंक माने गए हैं।
शुभ तिथियां :
मूलांक १ के लिए १, १0, १९ शुभ तिथियां होती हैं। तिथि २८ भी शुभ है, परंतु कई बार कार्य में विघ्न पड़ जाता है।
शुभ दिन :
इनके लिए रविवार, सोमवार एवं बृहस्पतिवार शुभ दिन होता है।
गुरु मंत्र :
मूलांक १ वाले व्यक्तियों को प्रात: सूर्यदेव को जल अर्पण एवं नमस्कार करना शुभ फल दिलाता है। उन्नति व नौकरी में परेशानी हो तो बंदरों को गुड़, चना खिलाना लाभदायक होता है। सफलता के लिए माणिक रत्न, सोने या तांबे की अंगूठी में धारण करना लाभदायक होगा। उन्हें लोहे की बनी वस्तुओं का व्यवसाय नहीं करना चाहिए। इनके लिए २00८ और २0१७ चौतरफा फलदायी वर्ष है।

No comments:

Post a Comment