Saturday, November 21, 2009

मूलांक 6 वाले पहनें सफेद वस्त्र

जिन व्यक्तियों का जन्म किसी भी माह की 6, 15 या 24 तारीख को होता है, उनका मूलांक ‘6’ बनता है। मूलांक 6 का स्वामी ग्रह शुक्र है, जो मूलांक 6 वाले पहनें सफेद वस्त्रकला, सौंदर्य और द्रव्य का कारक है। यदि ये तारीखें 20 अप्रैल से 27 मई तक और 20 सितंबर से 27 अक्टूबर के बीच हों तो शुक्र का जीवन में विशेष प्रभाव होता है। इन व्यक्तियों की शारीरिक बनावट आकषर्क होती है। इनका व्यक्तित्व चुंबकीय होता है। ये स्वयं अच्छे कलाकार होते हैं। पहली ही मुलाकात में सामने वाले व्यक्ति को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। दूसरे मूलांकों की तुलना में इनके मित्रों की संख्या अधिक होती है। मित्र मंडली का सानिध्य इनके जीने के लिए पर्याप्त होता है।
स्वभाव : मूलांक 6 वाले व्यक्तियों का मन सदैव सुंदर वस्तुओं, कविता, संगीत, नृत्य, कला आदि विषयों में लगता है। ये बहुत लोकप्रिय होते हैं। प्रसन्नतापूर्वक जीना ही इनका लक्ष्य है। असुर लोगों के गुरु ग्रह (शुक्र) के प्रभाव में आने वाला अंक होने के कारण इस मूलांक वाले जातक तंत्र-मंत्र, तपस्या व कार्यसिद्धि के लिए भगवान की प्रार्थना करने की इच्छा रखते हैं। इन व्यक्तियों में मिलनसारिता तथा आकषर्ण शक्ति खूब होती है। ये कोमल, प्रिय, तथा शांतिप्रिय होते हैं। स्वभाव से हठी भी होते हैं।
स्वास्थ्य : मूलांक 6 का कारक ग्रह शुक्र मनुष्य के शरीर में गले, मूत्राशय व गर्दन पर शासन करता है। प्रारंभिक वषरें में शरीर बहुत स्वस्थ रहता है, लेकिन भोग-विलास का जीवन बिताने के बाद अस्वस्थ होने की आशंका रहती है। इन व्यक्तियों को गले, श्वांस नलिका, फेफड़ों की परेशानी, छाती, कंधे, भुजाओं तथा पांवों में घाव व चोट की आशंका बनी रहती है। आमतौर से ये स्वस्थ ही दिखते है।
आर्थिक स्थिति : बचपन बीतते ही मूलांक 6 वाले भाग्य को अपने पक्ष में महसूस करते हैं। आर्थिक मामलों में ये धोखा भी खाते हैं। इन्हें रुपया-पैसा, उपहार और कीमती रत्न अप्रत्याशित ढंग से मिलते हैं, परंतु खर्चीले स्वभाव के कारण इस मूलांक के व्यक्तियों को बुढ़ापे में धन की कमी महसूस होती है।
व्यवसाय व कार्यरुचि : असुर गुरु शुक्र का प्रभाव मूलांक 6 वाले व्यक्तियों को जीवनर्पयत समाज में विशिष्ट स्थान दिलाता है। जीवन में ये व्यक्ति हर क्षेत्र में, जिसका सीधा संबंध जनसंपर्क से हो, में सफल रहते हैं। एक महान दार्शनिक, कवि, उपन्यासकार, धार्मिक नेता और लेखक के रूप में ख्याति अर्जित करते हैं। पहली श्रेणी में इस मूलांक के लोग कलाकार, मॉडल, अभिनेता, नट-नर्तक होते हैं। दूसरी श्रेणी में वास्तुकार, इंजीनियर, चिकित्सक व राजनीतिज्ञ आते हैं। तीसरी श्रेणी में व्यवसायी और उद्योगपति भी आते हैं। संसार में जितने भी कलाकार हैं, उनमें बहुसंख्या मूलांक 6 से संबंधित है।
प्रेम-संबंध, विवाह एवं संतान :
मूलांक 6 वाले व्यक्ति सही अर्थो में प्रेम करते हैं। इनका मूलांक 3, 6, 9, 2 वालों की ओर विशेष झुकाव होता है। वैवाहिक जीवन सुखी होता है। संतानसुख सामान्य ही होता है।
यात्रा : मूलांक 6 वाले यात्राएं कम ही करते हैं। ये व्यक्ति एक जगह रहकर जीवन का आनंद लेना चाहते हैं। यात्राओं से प्राय: लाभ कम ही होता है। कई बार विदेश जाते-जाते रह जाते हैं।
शुभ रंग : मूलांक 6 वालों का शुभ रंग सफेद है। इनको हल्का नीला और हल्का गुलाबी रंग भी लाभ देता है। हरा एवं सतरंगी मिला हुआ रंग भी शुभ होता है।
शुभ तिथियां : मूलांक ६ वालों को 6, 14, 24 तारीखें शुभ रहती हैं। इनको 3, 12, 21, 30 तथा 9,18,27 तारीखें भी विशेष लाभदायक होती हैं।
शुभ दिन : मूलांक 6 वालों के लिए सोमवार, मंगलवार, बुधवार एवं शुक्रवार शुभ दिन होते हैं। शुक्रवार किसी भी प्रमुख कार्य के लिए लाभदायक होता है।
गुरुमंत्र : मूलांक 6 वालों को किशोरावस्था में गलत लोगों की संगति के कारण यौनरोगों की आशंका रहती है। इन्हें अपनी मानसिक शक्ति पर नियंत्रण रखना चाहिए। रोगों के प्रभाव को कम करने के लिए प्रत्येक शुक्रवार को सुगंधित वस्तुओं, इत्र, चंदन और सफेद खाद्य पदार्थो का दान करना चाहिए। ये सामर्थय अनुसार मध्यमा में हीरा धारण करें, इसके अभाव में जर्किन एवं ओपल भी धारण कर सकते हैं। सफेद व हल्के गुलाबी रंग के वस्त्र पहनना लाभदायक होगा।

No comments:

Post a Comment