Monday, November 23, 2009

देवालय के आसपास नहीं हो घर - श्रीकृष्ण जुगनू

अपना घर न तो किसी प्राचीन देवालय के सामने बनवाएं, न ही घर के सामने कोई देवालय बनवाएं। यह भयंकर दोषकारी है। वास्तुशास्त्र में इसे वेध कहा गया है जिसे हर हाल में टालना चाहिए। यदि जिद के साथ ऐसा निर्माण किया जाता है तो संतान को पीड़ा, नेत्र बाधा, अपस्मार, अंग विकृति जैसी परेशानियां हो सकती हैं।
घर सुख-साधना का केंद्र है। इहलोक और परलोक की सिद्धि में घर बड़ी मदद करता है। भविष्यपुराण में कहा गया है कि अपने घर में किए गए हवन, यज्ञ-अनुष्ठानों का फल निश्चित ही गृहपति को मिलता है। ऐसे में घर का निरापद होना जरूरी है।
इसके लिए सर्वप्रथम उसे देव-वेध से बचाना चाहिए। वेधवास्तु प्रभाकर, निर्दोष वास्तु और वास्तु उद्धारधोरणी जैसे ग्रंथों में जिन उन्नीस प्रकार के वेधों का उल्लेख है, देव-वेध उनमें प्रमुख है। मत्स्यपुराण में भी वेध को हर हाल में टालकर वास्तु निर्माण का निर्देश है।
जो लोग पुराने देवालय के सामने घर या व्यापारिक प्रतिष्ठान बनवाते हैं, वे धन तो पाते हैं किंतु शारीरिक आपदाओं से घिर जाते हैं। यदि शिवालय के सामने घर बना हो तो मृत्यु तुल्य पीड़ा होती है। जिनालय के सामने बना हो तो घर शून्य रहेगा या वैभव से वैराग्य हो जाएगा।
भैरव, कार्तिकेय, बलदेव और देवी मंदिर के सामने घर बनाया गया तो क्रोध और कलह की आशंका रहेगी जबकि विष्णु मंदिर के सामने घर बनाने पर घर-परिवार को अज्ञात बीमारियां घेरे रहती हैं। इसी तरह मंदिर की जमीन या अन्य किसी हिस्से पर कब्जा नहीं करना चाहिए। मंदिर के किसी टूटे पत्थर को भी चिनाई के कार्य में नहीं लेना चाहिए।
यह भी कहा गया है कि देवालय वेध से वंश नहीं बढ़ता है। व्यक्ति तनाव और अवसाद का शिकार हो जाता है। उसे पक्षाघात, अंग विकृति, नेत्र ज्योति में बाधा भी हो सकती है। इसका कोई कारगर उपाय भी नहीं है, लेकिन द्वार बदलकर थोड़ी राहत पाई जा सकती है किंतु यह परिवर्तन बहुत सावधानी से होना चाहिए। प्राचीन काल में ऐसा दोष होने पर मंदिर की दूरी के बराबर बड़ा द्वार या पोल बनाकर नई बस्ती को बसाया जाता था।
पानी पर आवास नहीं हो :
भविष्यपुराण में जिक्र है कि जल के स्थान पर कभी आवास नहीं होना चाहिए। हां, विहार स्थल हो सकता है किंतु जल-पुलिया पर आवास नहीं होना चाहिए। देवालय नीचे हो और अपना आवास उससे ऊंचा हो, ऐसा भी नहीं होना चाहिए। किसी देवता का मुख अपने घर की ओर भी नहीं होना चाहिए। यदि घर में भी ऐसा हो तो पूजा के बाद पर्दा ढंक दिया जाना चाहिए।

No comments:

Post a Comment